पूर्वदशम् छात्रवृत्ति योजना

  • पूर्व मैट्रिक
  • उद्देश्य

    पिछड़े वर्गों के उत्थान के लिए शिक्षा का स्थान सर्वोपरि है। शिक्षा के अभाव के कारण ही कोई वर्ग पिछड़ा रह जाता हैं। भारत के स्वतंत्रता प्राप्ति की लम्बी अवधि के बाद भी अन्य पिछड़े वर्गों के शैक्षिक स्तर में अभी तक अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है। शिक्षा के स्तर में सुधार करने के लिए कई प्रयत्न किये गये हैं। वर्तमान में पिछड़े वर्गों के विकास एवं उनके शैक्षिक स्तर को ऊंचा उठाने के उद्देश्य से पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा पूर्वदशम छात्रवृत्ति योजना आनलाइन संचालित की जा रही है, जिसके अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में स्थित समस्त राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत अन्य पिछड़े वर्ग के पात्र छात्र/छात्राओं को प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति का लाभ प्रदान करते हुये उनके शैक्षिक स्तर को निरन्तर ऊंचा उठाने का प्रयास पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा किया जा रहा है।

    पात्रता

    • उत्तर प्रदेश में अध्ययनरत् एवं उत्तर प्रदेश के मूल निवासी।
    • छात्र के माता-पिता/अभिभावक की वार्षिक आय रू.  2 लाख तक।
    • समस्त राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत् छात्र/छात्रायें (बजट उपलब्धता की सीमा तक)।

    अनुमन्यता

    • वर्तमान में केवल कक्षा 9-10 हेतु योजना आनलाइन संचालित है, जिसके अन्तर्गत छात्रवृत्ति अनुमन्य करायी जाती है।
    • वित्तीय वर्ष 2014-15 से कक्षा 1-8 की छात्रवृत्ति योजना स्थगित है।
    • छात्र को छात्रवृत्ति प्रबन्धन प्रणाली की वेबसाइट http://scholarship.up.gov.in  पर निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन आवेदन किया जाना होता है।

    वरीयता क्रम

    • सर्वप्रथम केन्द्र अथवा राज्य सरकार के विभागों/निकायों द्वारा संचालित राजकीय शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत् छात्र/छात्राओं को
    • तदोपरान्त शासकीय सहायता प्राप्त शिक्षण संस्थान के रिनीवल तदोपरान्त फ्रेश छात्र/छात्राओं को
    • तदोपरान्त निजी क्षेत्र के मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान के रिनीवल तदोपरान्त फ्रेश छात्र/छात्राओं को

    धनराशि

    • रू0 150/- प्रति माह, अधिकतम् 10 माह हेतु एवं वार्षिक तदर्थ अनुदान रू0 750/- एकमुश्त, अधिकतम् रू0 2250/- वार्षिक।

    प्रक्रिया

    • सर्वप्रथम वेबसाइट http://scholarship.up.gov.in पर स्टूडेन्ट सेक्शन में ओ0बी0सी0 छात्रों हेतु Option पर Click करना।
    • छात्र/छात्रा द्वारा रजिस्ट्रेशन करना।
    • आवेदन पत्र भरना।
    • आवेदन पत्र का प्रिन्ट आउट प्राप्त करना।
    • प्राप्त प्रिन्ट आउट, समस्त संलग्नकों सहित शिक्षण संस्था में जमा करना।
    • शिक्षण संस्थान द्वारा आवेदन पत्र को सत्यापित एवं अग्रसारित करना।
    • शिक्षा अधिकारी द्वारा सत्यापित एवं अग्रसारित करना।
    • राज्य एन.आई.सी. स्तर पर परीक्षण एवं मिलान कराना।
    • जनपदीय स्वीकृति समिति द्वारा स्वीकृत/अस्वीकृत करना।
    • स्वीकृत डाटा जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी द्वारा डिजीटल सिगनेचर से लाक करना।
    • एन.आई.सी. पर उपलब्ध डाटा के आधार पर निदेशालय द्वारा मांग सृजित कराना।
    • राज्य मुख्यालय स्थित कोषागार से पी0एफ0एम0एस0 पोर्टल के माध्यम से ई-पेमेन्ट प्रणाली से सीधे छात्र/छात्रा के बैंक खाते में नियमावली में निर्धारित वरीयताक्रम के आधार पर उपलब्ध बजट की सीमा तक धनराशि का प्रेषण।

    महत्वपूर्ण बिन्दु

    • यह योजना केन्द्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत वित्त पोषित है।
    • छात्रों से आनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 01 जुलाई से प्रारम्भ है।
    • छात्रवृत्ति का वितरण 02 अक्टूबर व 26 जनवरी को।
    • योजना फण्ड लिमिटेड होने के कारण विगत वर्षो की देनदारियां देय नहीं होती हैं।
    • छात्र द्वारा भरे गये आनलाइन आवेदन के परीक्षणोपरान्त संदेहास्पद होने की स्थिति में छात्र को संदेहास्पद बिन्दु पर निराकरण निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन करते हुए वांछित अभिलेख समय से शिक्षण संस्थान में जमा करना होता है। फिर शिक्षण संस्थान द्वारा संशोधित आवेदन को आनलाइन अग्रसारित करते हुए वांछित अभिलेख सम्बन्धित जनपद के जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के कार्यालय में जमा किया जाना होता है।

    विगत् वर्षो में पूर्वदशम् छात्रवृत्ति की प्रगति रिपोर्ट

    वित्तीय वर्ष आवेदित छात्रों की संख्या लाभान्वित छात्रों की संख्या

    वितरित धनराशि
    (करोड़ रू0)

    2014-15 2,62,284 2,62,284 18.76
    2015-16  57,678 57,678 4.00
    2016-17  5,19,596 5,19,596 107.32
    2017-18  7,81,184 7,58,520 160.01
    2018-19 10,03,915 7,71,988 160.01
    2019-20 10,13,931 8,33,622 175.00