दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना

  • मैट्रिक के पश्चात
  • उद्देश्य

    पिछड़े वर्गों के उत्थान के लिए शिक्षा का स्थान सर्वोपरि है। शिक्षा के अभाव के कारण ही कोई वर्ग पिछड़ा रह जाता हैं। भारत के स्वतंत्रता प्राप्ति की लम्बी अवधि के बाद भी अन्य पिछड़े वर्गों के शैक्षिक स्तर में अभी तक अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है। शिक्षा के स्तर में सुधार करने के लिए कई प्रयत्न किये गये हैं। वर्तमान में पिछड़े वर्गों के विकास एवं उनके शैक्षिक स्तर को ऊंचा उठाने के उद्देश्य से पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना आनलाइन संचालित की जा रही है, जिसके अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में स्थित समस्त राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत अन्य पिछड़े वर्ग के पात्र छात्र/छात्राओं को प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति का लाभ प्रदान करते हुये उनके शैक्षिक स्तर को निरन्तर ऊंचा उठाने का प्रयास पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा किया जा रहा है।

    पात्रता

    • उत्तर प्रदेश में अध्ययनरत् एवं उत्तर प्रदेश के मूल निवासी।
    • छात्र के माता-पिता/अभिभावक की वार्षिक आय रू.  2 लाख तक।
    • समस्त राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत् छात्र/छात्रायें (बजट उपलब्धता की सीमा तक)।

    अनुमन्यता

    • सर्वप्रथम उपलब्ध बजट की सीमा में शासकीय, शासकीय सहायता प्राप्त एवं निजी क्षेत्र के मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत कक्षा-11 एवं 12 के गतवर्ष की परीक्षा की 50 प्रतिशत तक मेरिट वाले सभी अर्ह छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाती है। शेष बजट उपलब्ध होने पर अन्य समूहों के 50 प्रतिशत मेरिट तक अर्ह छात्रों को और उसके बाद भी यदि बजट बचता है तो कक्षा-11 एवं 12 के 50 प्रतिशत मेरिट से निम्न मेरिट वाले उत्तीर्ण छात्रों को बजट उपलब्धता की सीमा तक छात्रवृत्ति दी जाती है।
    • छात्र को छात्रवृत्ति प्रबन्धन प्रणाली की वेबसाइट http://scholarship.up.gov.in पर निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन आवेदन किया जाना होता है।

    कोर्स समूहवार छात्रवृत्ति की निर्धारित दरें

    क्र० सं०  समूह पाठयक्रम  छात्रवृत्ति की दरें
    छात्रावासीय छात्र दरें दिवा छात्र दरें
      समूह -1 डिग्री व मास्टर डिग्री स्तर के पाठ्यक्रम, एम.फिल.-पी.एच.डी., समस्त चिकित्सा पद्धति के पाठ्यक्रम, प्राद्योगिकी, इंजीनियरिंग, प्लानिंग, आर्किटेक्चर, डिजाइन, फैशन टेक्नोलाजी, कृषि, पशु चिकित्सा, एलाइड साइंस, व्यवसाय वित्त, मैनेजमेंट प्रशासन, कम्प्यूटर साइंस आदि पाठ्यक्रम, सी.पी.एल. पाठ्यक्रम, मैनेजमेंट चिकित्सा के परास्नातक स्तरीय डिप्लोमा, सी.ए., आई.सी.डब्ल्यू.ए., सी.एस., आई.सी.एफ.ए., एल.एल.एम., डी.लिट्., डी.एस.सी. आदि। 1200.00 550.00
      समूह -2 स्नातक/परास्नातक स्तरीय डिग्री डिप्लोमा, सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम यथा-फार्मेसी, नर्सिंग, एल.एल.बी., बी.एफ.एस., पैरा मेडिकल यथा-पुनर्वास, निदान आदि, मास कम्यूनिकेशन, होटल मैनेजमेंट, इंटीरियर डेकोरेशन, न्यूट्रीशन एण्ड डाइटेटिक्स, काँमर्शियल आर्ट, टूरिज्म हास्पिटैलिटी, फाइनैन्शियल सर्विसेज (ई.जी.बैंकिंग इंश्योरेंस, टैक्सटायेनेटिक) जिसमें न्यूनतम योग्यता इण्टरमीडिएट अथवा समकक्ष हो तथा परास्नातक पाठ्यक्रम जो समूह-1 में सम्मिलित न हो यथा-एम.ए./एम.एस.सी./एम.काम./एम.एड./एम.फार्मा/बी.एड. आदि। 820.00 530.00
      समूह -3 समस्त स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम जो समूह-। व ।। में सम्मिलित न हो, यथा-बी.ए., बी.एस.सी. एवं बी.काम./बी.टी.सी. आदि। 570.00 300.00
      समूह -4 समस्त नान डिग्री स्तरीय कोर्स, जिनमें न्यूनतम प्रवेश योग्यता हाईस्कूल हो, आई.टी.आई. तीन वर्षीय डिप्लोमा कोर्स (पालीटेक्निक) आदि। 380.00 230.00

    प्रक्रिया

    • सर्वप्रथम वेबसाइट http://scholarship.up.gov.in पर स्टूडेन्ट सेक्शन में ओ0बी0सी0 छात्रों हेतु Option पर Click करना।
    • छात्र/छात्रा द्वारा रजिस्ट्रेशन करना।
    • आवेदन पत्र भरना।
    • आवेदन पत्र का प्रिन्ट आउट प्राप्त करना।
    • प्राप्त प्रिन्ट आउट, समस्त संलग्नकों सहित शिक्षण संस्था में जमा करना।
    • शिक्षण संस्थान द्वारा आवेदन पत्र को सत्यापित एवं अग्रसारित करना।
    • शिक्षा अधिकारी द्वारा सत्यापित एवं अग्रसारित करना।
    • राज्य एन.आई.सी. स्तर पर परीक्षण एवं मिलान कराना।
    • जनपदीय स्वीकृति समिति द्वारा स्वीकृत/अस्वीकृत करना।
    • स्वीकृत डाटा जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी द्वारा डिजीटल सिगनेचर से लाक करना।
    • एन.आई.सी. पर उपलब्ध डाटा के आधार पर निदेशालय द्वारा मांग सृजित कराना।
    • राज्य मुख्यालय स्थित कोषागार से पी0एफ0एम0एस0 पोर्टल के माध्यम से ई-पेमेन्ट प्रणाली से सीधे छात्र/छात्रा के बैंक खाते में नियमावली में निर्धारित वरीयताक्रम के आधार पर उपलब्ध बजट की सीमा तक धनराशि का प्रेषण।

    महत्वपूर्ण बिन्दु

    • यह योजना केन्द्र सरकार द्वारा शत-प्रतिशत वित्त पोषित है।
    • छात्रों से आनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 01 जुलाई से प्रारम्भ है।
    • छात्रवृत्ति का वितरण 02 अक्टूबर व 26 जनवरी को।
    • योजना फण्ड लिमिटेड होने के कारण विगत वर्षो की देनदारियां देय नहीं होती हैं।
    • छात्र द्वारा भरे गये आनलाइन आवेदन के परीक्षणोपरान्त संदेहास्पद होने की स्थिति में छात्र को संदेहास्पद बिन्दु पर निराकरण निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन करते हुए वांछित अभिलेख समय से शिक्षण संस्थान में जमा करना होता है। फिर शिक्षण संस्थान द्वारा संशोधित आवेदन को आनलाइन अग्रसारित करते हुए वांछित अभिलेख सम्बन्धित जनपद के जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के कार्यालय में जमा किया जाना होता है।

    विगत् वर्षो में दशमोत्तर छात्रवृत्ति की प्रगति रिपोर्ट

    वित्तीय वर्ष आवेदित छात्रों की संख्या लाभान्वित छात्रों की संख्या वितरित धनराशि
    (करोड़ रू0)
    2014-15 13,93,365 12,72,915 466.90
    2015-16  13,01,955 10,44,638 355.09
    2016-17  20,47,366 13,64,070 433.74
    2017-18  20,73,531 18,78,452 535.37
    2018-19 21,83,940 18,13,891 564.08
    2019-20 21,85,490 20,22,865 609.72